Today Current Affairs 10 January 2021


 Q1.
निम्नलिखित में से किस विद्वान ने ’सरहपा’ को हिन्दी का प्रथम कवि मान है?

 आचार्य शुक्ल ने

 आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी ने

 डाॅ. रामकुमार वर्मा ने

 पं. राहुल सांकृत्यायन ने

Ans.आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी ने

Q2. आचार्य शुक्ल ने ’रासो’ शब्द का संबंध किस शब्द से माना है?

 रास से 

 रसायण से

रहस्य से

  रासक से

Ans.रसायण से

Q3. ’पृथ्वीराज विजय’ नामक ग्रंथ के आधार पर ’पृथ्वीराज रासोको अप्रामाणिक रचना मानने वाले विद्वान हैं-

 डाॅ. बूलर

  कविराजा श्यामलदास

 मुंशी देवीप्रसाद 

  गौरीशंकर हीराचंद ओझा

Ans. डाॅ. बूलर

Q4. गद्य-पद्य मिश्रित चम्पू काव्य की प्राचीनतम हिन्दी कृति कौन-सी है?

 वर्ण रत्नाकर

 उक्ति व्यक्ति प्रकरण

 राउलवेल          

 परमात्मप्रकाश

Ans. राउलवेल

Q5. निम्नलिखित ग्रंथों को उनके रचनाकारों के साथ सुमेलित कीजिये-

सूची-।                              सूची-।।

(क) बीसलदेव रासो            1. सरहपाद

(ख) खालिकबारी                2. नरपति नाल्ह

(ग) भरतेश्वर बाहुबली रास    3. शालिभद्र सूरि

(घ) दोहा कोश                   4. अमीर खुसरो

5. विद्यापति

कूट:

क  ख ग घ

5  3  2  1

 2  4  3  1

 4  2  3  5

 1  3  2  4

Ans. 2  4  3  1

Q6. ’पृथ्वीराज रासो’ हिन्दी का प्रथम महाकाव्य है, ऐसा मानने वाले विद्वान हैं-

 कविराजा श्यामलदास

 आचार्य शुक्ल

गौरीशंकर हीराचंद ओझा

 मुंशी देवीप्रसाद

Ans. आचार्य शुक्ल

Q7. इनमें से कौन-सा ग्रंथ आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी द्वारा नहीं लिखा गया है?

 हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास

हिन्दी साहित्य की भूमिका

 हिन्दी साहित्य उद्भव और विकास

हिन्दी साहित्य का आदिकाल

Ans.हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास


 Q8. ’द माॅडर्न वर्नेक्युलर लिटरेचर ऑफ नादर्न हिंदुस्तान’ का अनुवाद-हिन्दी साहित्य का प्रथम इतिहास-करने वाले लेखक हैं-

 गणपति चन्द्र गुप्त 

 रामकुमार वर्मा

लक्ष्मीसागर वार्ष्णेय

 किशोरीलाल गुप्त

Ans.किशोरीलाल गुप्त

Q9. स्वतंत्र पुस्तक के रूप में प्रकाशित होने से पूर्व आचार्य शुक्ल का ’हिन्दी साहित्य का इतिहास’ किस रूप में प्रकाशित हुआ था?

 भ्रमरगीत की भूमिका में

’हिन्दी शब्द सागर’ की भूमिका में

 पद्मावत की भूमिका में

 सरस्वती पत्रिका में

Ans.हिन्दी शब्द सागर’ की भूमिका में

Q10. सोलहवीं-सत्रहवीं सदी के युग को (भक्तिकाल को) हिन्दी काव्य का स्वर्ण-युग मानने वाले प्रथम विद्वान हैं-

 आचार्य शुक्ल 

मिश्रबंधु

जाॅर्ज ग्रियर्सन

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी

Ans.जाॅर्ज ग्रियर्सन

Q11. ’’हिन्दी रीतिग्रंथों की परम्परा चिंतामणि त्रिपाठी से चली, अतः रीतिकाल का आरंभ उन्हीं से मानना चाहिए।’’ इस कािन के लेखक हैं-

 आचार्य रामचन्द्र शुक्ल 

 आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी

 जाॅर्ज ग्रियर्सन 

 विश्वनाथ प्रसाद मिश्र

 Ans.आचार्य रामचन्द्र शुक्ल 

Q12. स्थापना (A): हिन्दी काव्य-क्षेत्र में कवि और आचार्य एकीकरण का प्रभाव अच्छा नहीं रहा।

तर्क (R): क्योंकि आचार्यत्व के लिए जिस सूक्ष्म पर्यालोचन शक्ति की अपेक्षा होती है, उसका विकास नहीं हो पाया।

 A और R दोनों सही

 A और R दोनों गलत

 A गलत, R सही

A सही, R गलत

Ans.A और R दोनों सही

Q13. आचार्य शुक्ल ने आधुनिक काल की सबसे प्रधान साहित्यिक घटना किसे माना है?

 कहानी का विकास

 काव्य-विषय में परिवर्तन

 अनेक साहित्यिक विधाओं का विकास

 गद्य का आविर्भाव

Ans.गद्य का आविर्भाव

Q14. आदिकाल में खङी बोली को काव्य की भाषा बनाने वाले पहले कवि कौन हैं?

 ज्योतिरीश्वर ठाकुर  

अमीर खुसरो

 विद्यापति  

  गोरखनाथ

Ans. अमीर खुसरो

15. "आध्यात्मिक रंग के चश्मे आजकल बहुत सस्ते हो गए हैं। उन्हें चढ़ाकर जैसे कुछ लोगों ने ’गीतगोविन्द’ के पदों को आध्यात्मिक संकेत बताया है, वैसे ही विद्यापति के इन पदों को भी।’’ शुक्ल जी के उक्त कथन का आशय है-

विद्यापति के पदों को आध्यात्मिक चश्मे से देखना चाहिए।

 विद्यापति के पदों और गीतगोविन्द में भाव-साम्य् नहीं है।

 विद्यापति के पद अधिकतर शृंगार के ही हैं।

विद्यापति के पदों की रचना-भक्ति की दृष्टि से की गयी है।

Ans. विद्यापति के पदों और गीतगोविन्द में भाव-साम्य् नहीं है।

अगर आपको दोस्तो यह Post अच्छा लगा हो तो आप इसे share तथा comments करे और अगर कोई problem हो तो comments करके जरूर बताये|

Tags:-

current affairs, current affairs 2021, gktoday ,current affairs in hindi, current affairs 2021 in hindi, current gk, current affairs of 2021, current affairs 2021 in hindi, current affairs 2019 in english, today current affairs in hindi, latest current affairs, gk current affairs, gktoday current affairs, gktoday in hindi current affairs of 2019 winmeen current affairs, 10 January 2021 current affairs, 10 January 2021 current affairs 2021, gktoday, daily current affairs 2021, today current affairs.










0 Post a Comment: